Tag Archives: maithili sharan gupt

हम कौन थे क्या हो गये – hum kaun the kya ho gaye hindi poem

आर्य -मैथिलीशरण गुप्त हम कौन थे, क्या हो गये हैं, और क्या होंगे अभी आओ विचारें आज मिल कर, यह समस्याएं सभी भू लोक का गौरव, प्रकृति का पुण्य लीला स्थल कहां फैला मनोहर गिरि हिमालय, और गंगाजल कहां संपूर्ण देशों से अधिक, किस देश का उत्कर्ष है उसका कि जो ऋषि भूमि है, वह… Read More »

अर्जुन की प्रतिज्ञा मैथिलीशरण गुप्त कविता | Maithili Sharan Gupt Poem

अर्जुन की प्रतिज्ञा -मैथिलीशरण गुप्त उस काल मारे क्रोध के तन काँपने उसका लगा, मानों हवा के वेग से सोता हुआ सागर जगा। मुख-बाल-रवि-सम लाल होकर ज्वाल सा बोधित हुआ, प्रलयार्थ उनके मिस वहाँ क्या काल ही क्रोधित हुआ? युग-नेत्र उनके जो अभी थे पूर्ण जल की धार-से, अब रोष के मारे हुए, वे दहकते… Read More »