qateel shifai ghazals क़तील शिफ़ाई की ग़ज़लें

By | January 29, 2018

क़तील शिफ़ाई की ग़ज़लें

शाम के साँवले चेहरे को निखारा जाये
क्यों न सागर से कोई चाँद उभारा जाये

रास आया नहीं तस्कीं* का साहिल कोई
फिर मुझे प्यास के दरिया में उतारा जाये

मेहरबाँ तेरी नज़र, तेरी अदायें क़ातिल
तुझको किस नाम से ऐ दोस्त पुकारा जाये

मुझको डर है तेरे वादे पे भरोसा करके
मुफ़्त में ये दिल-ए-ख़ुशफ़हम न मारा जाये

जिसके दम से तेरे दिन-रात दरख़्शाँ* थे क़तील
कैसे अब उस के बिना वक़्त गुज़ारा जाये

क़तील शिफ़ाई

अपने होठों पर सजाना चाहता हूँ
आ तुझे मैं गुनगुनाना चाहता हूँ

कोई आसू तेरे दामन पर गिराकर
बूंद को मोती बनाना चाहता हूँ

थक गया मैं करते करते याद तुझको
अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ

छा रहा हैं सारी बस्ती में अंधेरा
रोशनी को घर जलाना चाहता हूँ

आखरी हिचकी तेरे ज़ानो पे आये
मौत भी मैं शायराना चाहता हूँ

क़तील शिफ़ाई

वफ़ा के शीश महल में सजा लिया मैनें
वो एक दिल जिसे पत्थर बना लिया मैनें

ये सोच कर कि न हो ताक में ख़ुशी कोई
ग़मों कि ओट में ख़ुद को छुपा लिया मैनें

कभी न ख़त्म किया मैं ने रोशनी का मुहाज़
अगर चिराग़ बुझा, दिल जला लिया मैनें

कमाल ये है कि जो दुश्मन पे चलाना था
वो तीर अपने कलेजे पे खा लिया मैनें

क़तील जिसकी अदावत में एक प्यार भी था
उस आदमी को गले से लगा लिया मैनें

क़तील शिफ़ाई

प्यास वो दिल की बुझाने कभी आया भी नहीं,
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं,
बेरुख़ी इससे बड़ी और भला क्या होगी,
एक मुद्दत से हमें उस ने सताया भी नहीं,
रोज़ आता है दर-ए-दिल पे वो दस्तक देने,
आज तक हमने जिसे पास बुलाया भी नहीं,
सुन लिया कैसे ख़ुदा जाने ज़माने भर ने,
वो फ़साना जो कभी हमने सुनाया भी नहीं,
तुम तो शायर हो “क़तील” और वो इक आम सा शख़्स,
उसने चाहा भी तुझे और जताया भी नहीं…
-कतील शिफाई

best of qateel shifai ghazals

shaam ke saanvale chehare ko nikhaara jaaye
kyon na saagar se koee chaand ubhaara jaaye

raas aaya nahin taskeen* ka saahil koee
phir mujhe pyaas ke dariya mein utaara jaaye

meharabaan teree nazar, teree adaayen qaatil
tujhako kis naam se ai dost pukaara jaaye

mujhako dar hai tere vaade pe bharosa karake
muft mein ye dil-e-khushafaham na maara jaaye

jisake dam se tere din-raat darakhshaan* the qateel
kaise ab us ke bina vaqt guzaara jaaye

qateel shifai ghazals hindi

apane hothon par sajaana chaahata hoon
aa tujhe main gunagunaana chaahata hoon

koee aasoo tere daaman par giraakar
boond ko motee banaana chaahata hoon

thak gaya main karate karate yaad tujhako
ab tujhe main yaad aana chaahata hoon

chha raha hain saaree bastee mein andhera
roshanee ko ghar jalaana chaahata hoon

aakharee hichakee tere zaano pe aaye
maut bhee main shaayaraana chaahata hoon

qateel shifai

vafa ke sheesh mahal mein saja liya mainen
vo ek dil jise patthar bana liya mainen

ye soch kar ki na ho taak mein khushee koee
gamon ki ot mein khud ko chhupa liya mainen

kabhee na khatm kiya main ne roshanee ka muhaaz
agar chiraag bujha, dil jala liya mainen

kamaal ye hai ki jo dushman pe chalaana tha
vo teer apane kaleje pe kha liya mainen

qateel jisakee adaavat mein ek pyaar bhee tha
us aadamee ko gale se laga liya mainen

qateel shifai

pyaas vo dil kee bujhaane kabhee aaya bhee nahin,
kaisa baadal hai jisaka koee saaya bhee nahin,
berukhee isase badee aur bhala kya hogee,
ek muddat se hamen us ne sataaya bhee nahin,
roz aata hai dar-e-dil pe vo dastak dene,
aaj tak hamane jise paas bulaaya bhee nahin,
sun liya kaise khuda jaane zamaane bhar ne,
vo fasaana jo kabhee hamane sunaaya bhee nahin,
tum to shaayar ho “qateel” aur vo ik aam sa shakhs,
usane chaaha bhee tujhe aur jataaya bhee nahin…
kateel shifai ghazals

special read – munawwar rana ghazals

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *