Hindi Poems

नीड़ का निर्माण – Need Ka Nirmaan Hindi Poem Harivansh Rai Bachchan

नीड़ का निर्माण -हरिवंश राय बच्चन

need ka nirmaan poem in hindi

नीड़ का निर्माण फिर-फिर
नेह का आह्वान फिर-फिर

वह उठी आँधी कि नभ में
छा गया सहसा अँधेरा
धूलि धूसर बादलों ने
भूमि को इस भाँति घेरा

रात-सा दिन हो गया, फिर
रात आ‌ई और काली
लग रहा था अब न होगा
इस निशा का फिर सवेरा

रात के उत्पात-भय से
भीत जन-जन, भीत कण-कण
किंतु प्राची से उषा की
मोहिनी मुस्कान फिर-फिर

नीड़ का निर्माण फिर-फिर
नेह का आह्वान फिर-फिर

वह चले झोंके कि काँपे
भीम कायावान भूधर
जड़ समेत उखड़-पुखड़कर
गिर पड़े, टूटे विटप वर

हाय, तिनकों से विनिर्मित
घोंसलों पर क्या न बीती,
डगमगा‌ए जबकि कंकड़
ईंट, पत्थर के महल-घर

बोल आशा के विहंगम,
किस जगह पर तू छिपा था
जो गगन पर चढ़ उठाता
गर्व से निज तान फिर-फिर

नीड़ का निर्माण फिर-फिर
नेह का आह्वान फिर-फिर

क्रुद्ध नभ के वज्र दंतों
में उषा है मुसकराती,
घोर गर्जनमय गगन के
कंठ में खग पंक्ति गाती

एक चिड़िया चोंच में तिनका
लि‌ए जो जा रही है,
वह सहज में ही पवन
उंचास को नीचा दिखाती

नाश के दुख से कभी
दबता नहीं निर्माण का सुख
प्रलय की निस्तब्धता से
सृष्टि का नव गान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्वान फिर-फिर!

need ka nirmaan phir-phir Poem in Hindi harivansh rai bachchan

need ka nirmaan phir-phir
neh ka aahvaan phir-phir

vah uthi aandhi ki nabh mein
chha gaya sahasa andhera
dhooli dhoosar baadalon ne
bhoomi ko is bhaanti ghera

raat-sa din ho gaya, phir
raat aa‌i aur kaali
lag raha tha ab na hoga
is nisha ka phir savera

raat ke utpaat-bhay se
bhit jan-jan, bhit kan-kan
kintu praachi se usha kee
mohini muskaan phir-phir

need ka nirmaan phir-phir
neh ka aahvaan phir-phir

vah chale jhonke ki kaanpe
bheem kaayaavaan bhoodhar
jad samet ukhad-pukhadakar
gir pade, tooti vitap var

haay, tinakon se vinirmit
ghonsalon par kya na beetee,
dagamaga‌e jabaki kankad
eent, patthar ke mahal-ghar

bol aasha ke vihangam,
kis jagah par too chhipa tha
jo gagan par chadh uthaata
garv se nij taan phir-phir

need ka nirmaan phir-phir
neh ka aahvaan phir-phir

kruddh nabh ke vajr danton
mein usha hai musakaraati
ghor garjanamay gagan ke
kanth mein khag pankti gaatee

ek chidiya chonch mein tinaka
li‌e jo ja rahee hai,
vah sahaj mein hee pavan
unchaas ko neecha dikhaati

naash ke dukh se kabhi
dabata nahin nirmaan ka sukh
pralay kee nistabdhata se
srshti ka nav gaan phir-phir

need ka nirmaan phir-phir,
neh ka aahvaan phir-phir

 

special read – harivansh rai bachchan poem jo beet gayi

Related Post

About the author

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this: