Uncategorized

Jiski Dhun Par Duniya Naache Poem By Kumar Vishwas

Jiski Dhun par duniya naache poem by kumar vishwas

bahut toota bahut bikhra poem

jiski dhun par duniya naache

jiski dhun par duniya naache dil aisa ek tara hai

jo humko bhi pyara hai or jo tumko bhi pyara hai

jhoom rahi hai sari duniya, jabki humare geeto par

tab kehti ho pyar hua hai, kya ehsaan tumhara hai

jo dharti se ambar jode uska naam mohbaat hai

jo shishe se patthar tode, uska naam mohbaat hai

katra katra sagar tak to, jati hai har umr magar,

behta dariya wapas mode, uska naam mohbaat hai

panaho mein jo aaya ho, to us par war kya karna

jo dil hara hua ho, us pe fir adhikar kya karna?

mohbaat ka maza to dubne ki kashmakash mein hai

jo ho maloom gehrai, to dariya paar kya karna

bsti basti ghor udasi parvat parvat khalipan,

man heera be mol beek gaya ghis ghis rita tan chandan

is dharti se us ambar tak bus do hi chiz gazab ki hai,

ek to tera bhola pan hai ek mera deewana pan hai

tumhare paas hu lekin jo doori hai wo samajta hu

tumhare bin meri hasti adhoori hai samajta hu

tumhe main bhul jaunga yeh mumkin nahi hai 

lekin tumhi ko bhulna sabse jaruri hai yeh samjta hu

bahut bikhra bahut toota thapede seh nahi paya 

hawao ke isharo pe magar main beh nahi paaya

adhura ansuna hi reh gaya yuh pyar ka kissa 

kabhi tum sun nahi payi, kabhi main keh nahi paya – kumar vishwas

rahat indori shayari

जिसकी धुन पर दुनिया नाचे

जिसकी धुन पर दुनिया नाचे, दिल ऐसा इकतारा है,
जो हमको भी प्यारा है और, जो तुमको भी प्यारा है.
झूम रही है सारी दुनिया, जबकि हमारे गीतों पर,
तब कहती हो प्यार हुआ है, क्या अहसान तुम्हारा है.

जो धरती से अम्बर जोड़े , उसका नाम मोहब्बत है ,
जो शीशे से पत्थर तोड़े , उसका नाम मोहब्बत है ,
कतरा कतरा सागर तक तो ,जाती है हर उम्र मगर ,
बहता दरिया वापस मोड़े , उसका नाम मोहब्बत है .

पनाहों में जो आया हो, तो उस पर वार क्या करना ?
जो दिल हारा हुआ हो, उस पे फिर अधिकार क्या करना ?
मुहब्बत का मज़ा तो डूबने की कशमकश में हैं,
जो हो मालूम गहराई, तो दरिया पार क्या करना ?

बस्ती बस्ती घोर उदासी पर्वत पर्वत खालीपन,
मन हीरा बेमोल बिक गया घिस घिस रीता तनचंदन,
इस धरती से उस अम्बर तक दो ही चीज़ गज़ब की है,
एक तो तेरा भोलापन है एक मेरा दीवानापन.

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है समझता हूँ,
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है समझता हूँ,
तुम्हे मै भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नही लेकिन,
तुम्ही को भूलना सबसे ज़रूरी है समझता हूँ

बहुत बिखरा बहुत टूटा थपेड़े सह नहीं पाया,
हवाओं के इशारों पर मगर मैं बह नहीं पाया,
अधूरा अनसुना ही रह गया यूं प्यार का किस्सा,
कभी तुम सुन नहीं पायी, कभी मैं कह नहीं पाया

Related Post

About the author

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this: