हम कौन थे क्या हो गये – hum kaun the kya ho gaye hindi poem

By | January 28, 2018

आर्य -मैथिलीशरण गुप्त

हम कौन थे, क्या हो गये हैं, और क्या होंगे अभी
आओ विचारें आज मिल कर, यह समस्याएं सभी
भू लोक का गौरव, प्रकृति का पुण्य लीला स्थल कहां
फैला मनोहर गिरि हिमालय, और गंगाजल कहां
संपूर्ण देशों से अधिक, किस देश का उत्कर्ष है
उसका कि जो ऋषि भूमि है, वह कौन, भारतवर्ष है

यह पुण्य भूमि प्रसिद्घ है, इसके निवासी आर्य हैं
विद्या कला कौशल्य सबके, जो प्रथम आचार्य हैं
संतान उनकी आज यद्यपि, हम अधोगति में पड़े
पर चिह्न उनकी उच्चता के, आज भी कुछ हैं खड़े

वे आर्य ही थे जो कभी, अपने लिये जीते न थे
वे स्वार्थ रत हो मोह की, मदिरा कभी पीते न थे
वे मंदिनी तल में, सुकृति के बीज बोते थे सदा
परदुःख देख दयालुता से, द्रवित होते थे सदा

संसार के उपकार हित, जब जन्म लेते थे सभी
निश्चेष्ट हो कर किस तरह से, बैठ सकते थे कभी
फैला यहीं से ज्ञान का, आलोक सब संसार में
जागी यहीं थी, जग रही जो ज्योति अब संसार में

वे मोह बंधन मुक्त थे, स्वच्छंद थे स्वाधीन थे
सम्पूर्ण सुख संयुक्त थे, वे शांति शिखरासीन थे
मन से, वचन से, कर्म से, वे प्रभु भजन में लीन थे
विख्यात ब्रह्मानंद नद के, वे मनोहर मीन थे

hum kaun the kya ho gaye poem in hindi – hindi poetry

hum kaun the kya ho gaye hain, aur kya honge abhi
aao vichaaren aaj mil kar, yah samasyaen sabhi
bhoo lok ka gaurav, prakrti ka puny leela sthal kahaan
phaila manohar giri himaalay, aur gangaajal kahaan
sampoorn deshon se adhik, kis desh ka utkarsh hai
usaka ki jo rshi bhoomi hai, vah kaun, bhaaratavarsh hai

yah puny bhoomi prasidgh hai, isake nivaasee aary hain
vidya kala kaushaly sabake, jo pratham aachaary hain
santaan unki aaj yadyapi, ham adhogati mein pade
par chihn unakee uchchata ke, aaj bhi kuchh hain khade

ve aary hee the jo kabhi, apane liye jeete na the
ve svaarth rat ho moh ki, madira kabhi peete na the
ve mandini tal mein, sukrti ke beej bote the sada
paraduhkh dekh dayaaluta se, dravit hote the sada

sansaar ke upakaar hit, jab janm lete the sabhee
nishchesht ho kar kis tarah se, baith sakate the kabhee
phaila yaheen se gyaan ka, aalok sab sansaar mein
jaagee yaheen thee, jag rahee jo jyoti ab sansaar mein

ve moh bandhan mukt the, svachchhand the svaadhin the
sampoorn sukh sanyukt the, ve shaanti shikharaasin the
man se, vachan se, karm se, ve prabhu bhajan mein leen the
vikhyaat brahmaanand nad ke, ve manohar meen the

special readkumar vishwas muktak

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *