चेतक की वीरता Chetak Ki Veerta – Chetak Poem

By | January 29, 2018

चेतक की वीरता -श्यामनारायण पाण्डेय

रण बीच चौकड़ी भर-भर कर
चेतक बन गया निराला था
राणाप्रताप के घोड़े से
पड़ गया हवा का पाला था

जो तनिक हवा से बाग हिली
लेकर सवार उड़ जाता था
राणा की पुतली फिरी नहीं
तब तक चेतक मुड़ जाता था

गिरता न कभी चेतक तन पर
राणाप्रताप का कोड़ा था
वह दौड़ रहा अरिमस्तक[1] पर
वह आसमान का घोड़ा था

था यहीं रहा अब यहाँ नहीं
वह वहीं रहा था यहाँ नहीं
थी जगह न कोई जहाँ नहीं
किस अरिमस्तक पर कहाँ नहीं

निर्भीक गया वह ढालों में
सरपट दौडा करबालों में
फँस गया शत्रु की चालों में

बढ़ते नद-सा वह लहर गया
फिर गया गया फिर ठहर गया
विकराल वज्रमय बादल-सा
अरि की सेना पर घहर गया

भाला गिर गया गिरा निसंग
हय टापों से खन गया अंग
बैरी समाज रह गया दंग
घोड़े का ऐसा देख रंग

Chetak Ki veerta Poem – Chetak Poem

ran beech chaukadee bhar-bhar kar
chetak ban gaya niraala tha
raanaa prataap ke ghode se
pad gaya hava ka paala tha

jo tanik hawa se baag hile
lekar savaar ud jaata tha
raana kee putalee phiree nahin
tab tak chetak mud jaata tha

girata na kabhi chetak tan par
raanaa prataap ka koda tha
vah daud raha arimastak par
vah aasamaan ka ghoda tha

tha yaheen raha ab yahaan nahin
vah vaheen raha tha yahaan nahin
thee jagah na koee jahaan nahin
kis arimastak par kahaan nahin

nirbheek gaya vah dhaalon mein
sarapat dauda karabaalon mein
phans gaya shatru kee chaalon mein

badhate nad-sa vah lahar gaya
phir gaya gaya phir thahar gaya
vikaraal vajramay baadal-sa
ari[2] kee sena par ghahar gaya

bhaala gir gaya gira nisang
hay[3] taapon se khan gaya ang
bairee samaaj rah gaya dang
ghode ka aisa dekh rang – poem on chetak ki veerta

special readsafar me dhoop to hogi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *