Hindi Poems

बहुत कठिन है डगर पनघट की Bahut Kathin Hai Dagar Panghat Ki Hindi Poetry

 

बहुत कठिन है डगर पनघट की -अमीर ख़ुसरो

बहुत कठिन है डगर पनघट की।
कैसे मैं भर लाऊँ मधवा से मटकी
मेरे अच्छे निज़ाम पिया।
कैसे मैं भर लाऊँ मधवा से मटकी
ज़रा बोलो निज़ाम पिया।
पनिया भरन को मैं जो गई थी।
दौड़ झपट मोरी मटकी पटकी।
बहुत कठिन है डगर पनघट की।
खुसरो निज़ाम के बलि-बलि जाइए।
लाज राखे मेरे घूँघट पट की।
कैसे मैं भर लाऊँ मधवा से मटकी
बहुत कठिन है डगर पनघट की।

 

bahut kathin hai dagar panghat ki hindi poem

bahut kathin hai dagar panghat ki.
kaise main bhar laun madhava se matki
mere achchhe nizaam piya.
kaise main bhar laun madhav se matki
zara bolo nizaam piya.
paniya bharan ko main jo gaee thi.
daud jhapat moree matakee pataki.
bahut kathin hai dagar panaghat ki.
khusaro nizaam ke bali-bali jaie.
laaj raakhe mere ghoonghat pat ki.
kaise main bhar laoon madhava se matki
bahut kathin hai dagar panaghat ki.

 

special read – hum kaun the kya ho gaye hindi poem

Related Post

About the author

admin

Leave a Comment

%d bloggers like this: