आओ फिर से दिया जलाएँ | aao phir se diya jalaye – Atal Bihari Vajpaee Poems

By | February 22, 2018

aao phir se diya jalaye – atal Bihari Vajpayee Poem

aao phir se diya jalaye
bharee dupaharee mein andhiyaara
sooraj parachhai se haara
antaratam ka neh nichoden-
bujhee huee baatee sulagaen.
aao phir se diya jalaen

ham padaav ko samajhe manzil
lakshy hua aankhon se ojhal
vatarmaan ke mohajaal mein-
aane vaala kal na bhulaen.
aao phir se diya jalaen.

aahuti baaki yagy adhoora
apanon ke vighnon ne ghera
antim jay ka vazr banaane-
nav dadheechi haddiyaan galaen.
aao phir se diya jalaen

nida fazli ghazals 

faiz ahmed faiz shayari

munawwar rana ghazals

आओ फिर से दिया जलाएँ -अटल बिहारी वाजपेयी

आओ फिर से दिया जलाएँ
भरी दुपहरी में अंधियारा
सूरज परछाई से हारा
अंतरतम का नेह निचोड़ें-
बुझी हुई बाती सुलगाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

हम पड़ाव को समझे मंज़िल
लक्ष्य हुआ आंखों से ओझल
वतर्मान के मोहजाल में-
आने वाला कल न भुलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ।

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा
अपनों के विघ्नों ने घेरा
अंतिम जय का वज़्र बनाने-
नव दधीचि हड्डियां गलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *